वैवाहिक जीवन में अगर हुआ ऐसा,तो हो सकती है मौत

एक समय था जब दिल के दौरे को वृद्धों की बीमारी मानी जाती है, लेकिन अब कम उम्र के लोग भी इसका शिकार हो रहे हैं यही वजह है कि आजकल दिल के मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, चिकित्सकों के मुताबिक दिल का दौरा पड़ने से 1 महीने पहले ही इसके लक्षण देखे जा सकते हैं।

0
Subscribe us on Youtube

एक समय था जब दिल के दौरे को वृद्धों की बीमारी मानी जाती है, लेकिन अब कम उम्र के लोग भी इसका शिकार हो रहे हैं यही वजह है कि आजकल दिल के मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, चिकित्सकों के मुताबिक दिल का दौरा पड़ने से 1 महीने पहले ही इसके लक्षण देखे जा सकते हैं। अगर इसे गंभीरता से लिया जाये तो आने वाले खतरे को टाला जा सकता है। हार्ट अटैक के इन लक्षणों के बारे में जानना बहुत जरुरी है। कोई भी लक्षण महसूस होने पर, चाहे वो हल्का ही क्यों न हो तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। आइए हम आपको बताते हैं हार्ट अटैक के उन लक्षणों के बारे में जिनको जानकर आप आने वाली समस्या का समय से उपचार करा सकते हैं।

हार्ट अटैक के लक्षण

हममे से हर किसी का जीवन व्यस्तता से भरा है, अक्सर हम लगातार काम करने के बाद थक जाते हैं लेकिन बिना किसी कारण के अक्‍सर थक जाना या हमेशा थका-थका महसूस करना भी परेशानी का सबब हो सकता है। अगर आप अक्‍सर अक्‍सर थका हुआ महसूस करते हैं तो डॉक्टर से जल्द से जल्द इसकी जांच कराएं। अक्सर हम अपच और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल जैसी बीमारियों को नजरअंदाज कर देते हैं क्‍योंकि हमें ऐसा लगता है कि हार्ट अटैक की समस्‍या आमतौर पर बड़े उम्र के लोगों में पाई जाती है, लेकिन यहीं हम भूल कर जाते हैं। सामान्‍य रूप से पेट में दर्द, अपच, हार्ट बर्न या उल्‍टी की समस्‍या होना हार्ट अटैक का संकेत हो सकता है। बिना किसी काम और एक्‍सरसाइज के सामान्‍य से ज्यादा पसीना आना हृदय की समस्याओं की चेतावनी है।

हार्ट अटैक का सबसे सामान्य लक्षण है सीने में दर्द या बेचैनी। छाती के बीच में बेचैनी, दबाव, दर्द, जकड़न और भारीपन अनुभव करने पर तुरंत डाक्‍टर से संपर्क कर उसे चैक करवाना चाहिए। लगातार होनी वाली चिंता और घबराहट को जीवन में होने वाले विशिष्ट तनाव से नहीं जोड़ा जा सकता है। रात को सोने में कठिनाई होना या रात में चिंता या संकट की भावना के कारण अचानक से उठ जाना भी हार्ट अटैक के पहले से दिखने वाले लक्षण हैं और अक्सर ये उन लोगो को होता है जिनके जीवन में तनाव होता है।

एक रिसर्च के मुताबिक

अक्सर आपने सुना होगा वैवाहिक जीवन में तनाव के कारण तलाक हो सकता है या ये काफी हद तक दिल को तोड़ सकता है लेकिन क्या आपको पता है वैवाहिक जीवन में तनाव के कारण पुरुषो को दिल का दौरा पड़ जाता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि वैवाहिक जीवन में तनाव होने से पुरुषों में दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है। शोधकर्ताओं ने पाया कि वैवाहिक जीवन में ऊंच-नीच देखना आजकल आम बात है और इन तनाव के कारण पुरुषों के रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल और वजन में गिरावट आती है। जिसकी वजह से दिल के दौरा पड़ने का ज्यादा खतरा होता है। पुरूषो के लिए घरेलु झगडे़ दिल के दौरे का प्रमुख कारण बन गयी है, वहीं इस रिसर्च में ये भी कहा गया है कि पारिवारिक जीवन में खुशहाली होने से दिल का दौरा पड़ने के कम आसार होते। अक्सर दिल का दौरा पड़ने के उन लोगो के ज्यादा आसार होते जो हर वक्त टैंशन में रहते हैं, डिप्रेशन से भी दिल दौरा पड़ने का खतरा बना रहता है।

कम हो जाएगा हार्ट अटैक का खतरा

एक रिसर्च के अनुसार रोजाना हेल्थी डाइट लेकर और रोजाना एक्सरसाइज करके आप अपने हार्ट को हेल्थी रख सकते हैं। अगर आप शराब और सिगरेट का सेवन नहीं करेंगे तो आप हार्ट अटैक जैसे खतरे से बाहर रहेंगे। आज हम आपको वो तरीके बताएंगे जिनका इस्तेमाल करके आप अपनी जिंदगी को कम से कम 7 साल तक बढ़ा सकते हैं। रोजाना कम से कम 7 घण्टें की नींद लें ये आपके हार्ट को स्वस्थ रखने के लिए बेहद जरूरी है। अपने वजन को बढ़ने न दें अगर आपका वजन 5 प्रतिशत भी बढ़ता है तो ये आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है। ज्यादा गुस्सा करना भी खतरे से खाली नहीं है, इससे कोरोनरी आर्टरी डिजीज का खतरा बढ़ सकता है। अगर डेली कैलोरी में 25 प्रतिशत भी शुगर लेते हैं तो ये हार्ट अटैक के खतरे को बढ़ा सकता है। हमेशा हंसते रहे क्योंकि इससे कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है और ब्लड सर्कुलेशन भी नियंत्रित रहता है। रोजाना सुबह 30 मिनट तक टहलने से 50 प्रतिशत हार्ट डिजीज का खतरा टल जाता है और अगर आप हफ्ते में 30 से 32 किमी साईकिल चलाते है तो 50 प्रतिशत तक हार्ट अटैक का खतरा कम होता है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here