रोहिंग्या की नागरिकता पर किसने उठाए सवाल

रोहिंग्या मुसलमानों के मामले पर म्यामांर सेना का एक बड़ा बयान सामने आया है। सेना ने साफ किया है कि रोहिंग्या म्यांमार के नागरिक नहीं हैं।

0
Subscribe us on Youtube

यांगून। रोहिंग्या मुसलमानों के मामले पर म्यामांर सेना का एक बड़ा बयान सामने आया है। सेना ने साफ किया है कि रोहिंग्या म्यांमार के नागरिक नहीं हैं। मीडिया ने बहुत बढ़ा-चढ़ाकर इनके मामले को पेश किया, लेकिन ऐसा कुछ था नहीं। सेना ने कहा है कि रोहिंग्या ने म्यांमार के लोगों पर जिस प्रकार का अत्याचार किया है, वह भूला नहीं जा सकता है।

अमेरिकी राजदूत स्कॉट मारसिएल के साथ मुलाकात के दौरान म्यांमार सेना के प्रमुख मिन अंग हलियांग ने ये बातें कही। उन्होंने बताया कि म्यांमार सेना ने रोहिंग्या पर किसी प्रकार का अत्याचार नहीं किया है। मीडिया पर आरोप मढ़ते हुए उन्होंने कहा कि पत्र-पत्रिकाओं को टीवी पर घटनाओं को गलत तरीके से पेश किया गया। जिसका हकीकत से कोई वास्ता नहीं है।

सेना प्रमुख ने इस मुलाकात की पूरी जानकारी अपने फेसबुक पेज पर दी है। उन्होंने लिखा है कि रोहिंग्या को ‘बंगाली’ कहा जाता है। इस समस्या के लिए अंग्रेज जिम्मेदार हैं। ब्रिटिश साम्राज्यवाद की नीतियों के कारण ऐसा हो रहा है। ब्रिटिश सरकार ने इन्हें म्यांमार में बसाया। उन्होंने लिखा है कि ऐसा कोई प्रमाण नहीं है, जिससे यह साबित हो सके कि वो म्यांमार के मूल वासी हैं।

Subscribe Here to follow Nedrick News Official Youtube Channel
उन्होंने लिखा है कि ब्रिटिश दस्तावेज में भी इन्हें रोहिंग्या कहकर नहीं संबोधित किया गया है। इन्हें सिर्फ बंगाली ही कहा गया है। फिर ये कैसे खुद को म्यांमार के नागरिक कह सकते हैं। उन्होंने कहा कि म्यांमार को बदनाम किया जा रहा है। कुछ पत्रकार इसमें शामिल हैं। उन्हें ऐसी हरकतों से बचना चाहिए। इससे किसी का भी भला नहीं होगा। उन्होंने कहा है कि म्यांमार शांति पसंद राष्ट्र है। उनके देश का किसी भी दूसरे देश से खराब संबंध नहीं है और आगे भी संबंध अच्छे बने रहेंगे। कुछ लोग चाहते हैं कि म्यांमार विश्व में अलग-थलग पड़ जाए, वहीं लोग ऐसी हरकते कर रहे हैं।

 

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here