पाकिस्तान में ‘दामादजी’ के बयान पर बरपा बवाल

नेशनल असेंबली में इस तरह के नफरत संबंधी बयानों को सुनना वाकई अफसोसजनक है। उन्होंने कहा कि हम समावेशी पाकिस्तान में विश्वास रखते हैं। देश सभी अल्पसंख्यकों का सम्मान करता है।

0
Subscribe us on Youtube

इस्लामाबाद पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद मुहम्मद सफदर के बयान पर सवाल उठ रहे हैं। पाकिस्तान के गृहमंत्री और पीएनएल-एन के दिग्गज नेता अहसान इकबाल ने मुहम्मद सफदर के संसद में अल्पसंख्यक अहमदी समुदाय के बारे में दिये गये नफरत फैलाने संबंधी बयान को दुखद करार दिया है।

 

Subscribe
Here
to follow Nedrick News Official Youtube Channel

पाकिस्तान के गृह मंत्री के इस वक्तव्य पर न्यूज इंटरनेशनल में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा है कि नेशनल असेंबली में इस तरह के नफरत संबंधी बयानों को सुनना वाकई अफसोसजनक है। उन्होंने कहा कि हम समावेशी पाकिस्तान में विश्वास रखते हैं। देश सभी अल्पसंख्यकों का सम्मान करता है।

अपदस्थ प्रधानमंत्री के दामाद (सेवानिवृत) कैप्टन सफदर के बयान की काफी आलोचना हो रही है। वो  अहमदी समुदाय पर दिये गये अपने बयान को लेकर आलोचनाओं के घेरे में आ गये हैं और सोशल मीडिया पर भी उनकी भारी आलोचना हो रही है।

बता दें कि कैप्टन सफदर ने पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में कहा था कि ये लोग यानी अहमदी समुदाय देश, देश के संविधान और विचारधारा के लिए एक खतरा हैं। उन्होंने आगे यह भी कहा कि वह सशस्त्र बलों में अहमदी समुदाय की भर्ती पर वो इतेफाक नहीं रखते हैं और प्रतिबंध लगाने के लिए असेंबली में एक प्रस्ताव पेश करना चाहते हैं। उन्होंने इससे आगे भी कहा है कि पाकिस्तान में सेना सहित किसी भी जिम्मेदार विभाग में बड़े पदों पर बैठे अहमदिया समुदाय के लोग पाकिस्तान की सुरक्षा के लिए सही नहीं हैं। ऐसे में उन्हें उन पदों से हटाया जाना चाहिए।

गौरतलब है कि पाकिस्तान में इस समुदाय पर कई प्रतिबंध लगाये गये हैं। ये लोग हज यात्रा के लिए सऊदी अरब नहीं जा सकते हैं। साथ ही ये लोग अपने धार्मिक आस्था के बारे में प्रचार प्रसार नहीं कर सकते हैं। हमेशा ही समुदाय के सदस्य बंदूकों के नोक पर रहते हैं। मई 2010 में इस समुदाय के दो प्रार्थना स्थलों पर आत्मघाती हमला किया गया था जिसमे 80 लोगों की मौत हो गई थी।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here