आतंकी हाफिज की पार्टी को नहीं मिलेगा राजनीतिक स्वरूप!

0
Subscribe us on Youtube

मुंबई। मुंबई में हुए आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पाकिस्तान हमेशा से ही सेफ करता आया है। हाफिज के मामले पर पाकिस्तान का दोहरा रवैया एक बार फिर दुनिया के सामने आया है। हाफिज सईद की राजनीतिक पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग (MML)को राजनीतिक दल के रुप में मान्यता देने के लिए पाकिस्तान थोड़ा संकोच में है। पाकिस्तान चुनाव आयोग ने जब MMLको राजनीतिक दल के रूप में पंजीकृत करने के लिए गृह मंत्रालय से राय मांगी तो, गृह मंत्रालय की ओर से कहा गया कि MML के तार आतंकियों से जुड़े हुए हैं, जिसके कारण इसे राष्ट्रीय राजनीतिक दल के रूप में मान्यता देना सही नहीं होगा।

Subscribe
Here
to follow Nedrick News Official Youtube Channel

गृह मंत्रालय की रिपोर्ट के बाद चुनाव आयोग ने MML के पंजीकरण आवेदन को खारिज कर दिया है। बता दें कि विश्व स्तर पर पाकिस्तान आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैय्यबा के संस्थापक और जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद का रास्ता साफ करता हुआ आया है। पाकिस्तान द्वारा कई बार हाफिज को आतंकी कहे जाने की बात ठुकराई जा चुकी है। ऐसे में उसकी पार्टी को राजनीतिक पार्टी ना मानना पाकिस्तान के दोहरे रवैये का चेहरा है। पाकिस्तान के इस रवैया के बाद विशेषज्ञों का मानना है कि भारत और अमेरिका द्वारा पाकिस्तान पर लगातार हाफिज पर शिकंजा कसने के लिए दवाब बनाया जा रहा है। जिसके कारण उसने हाफिज की पार्टी के राजनीतिक पार्टी बनाने के आवेदन को खारिज किया है।

पाकिस्तान सेना आतंकी हाफिज सईद समेत कई आतंकवादी संगठनों को राजनीति में लाने की पैरवी कर रहा है। गत दिनों पाकिस्तान में हुए चुनावों में हाफिज की पार्टी MML के चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी गई थी। चुनाव आयोग द्वारा बेशक MML पर रोक लगाई गई हो, लेकिन पार्टी के राजनेताओं ने निर्दलीय से चुनाव लड़कर अपनी जिद को पूरा किया था। इस दौरान सरेआम हाफिज के पोस्टर और बैनकर का इस्तेमाल किया गया था। हालांकि चुनावों में पार्टी को मुंह की खानी पड़ी पर वो देश की तीसरी सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बनने में कामयाब रही।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here