south African president
CBI Remand 7 days
Bharat-Petroleum-Advertisement
Manika Batra, table tennis
Karnataka ELECTION
ये जादुई उपाय दिलाएंगे आपको बीमारियों से छुटकारा
Salman khan, Sunil Grover
mamta, high court
कठुआ गैंगरेप मामले पर फॉरेंसिक लैब के खुलासे से चौंक जाएंगे आप
अब रेप के दोषियों को मिलेगी सजा-ए-मौत, केंद्र सरकार करने जा रही है कानून में बदलाव
पाकिस्तानी एक्ट्रेस ने #MeToo कैंपेन के जरिए इस मशहूर एक्टर पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

सूर्य ही नहीं, इस असुर का भी अंश था कर्ण

सूर्य ही नहीं, इस असुर का भी अंश था कर्ण

कर्ण महाभारत के सबसे चर्चित पात्रों में से एक था। उसकी दानवीरता की कहानी आज भी लोगों के बीच प्रचलित है। कर्ण कुंती का पुत्र और पाण्डवों का भाई था,...

Read more

इसलिए हिन्दू धर्म में वर्जित है एक ही गोत्र में शादी

इसलिए हिन्दू धर्म में वर्जित है एक ही गोत्र में शादी

हिन्दू धर्म में अन्तरजातीय विवाह का हमेशा से ही विरोध होता आया है। हर जाति के लोग अपनी ही जाति और बिरादरी में शादी करते हैं। दूसरी जाति से शादी...

Read more

ऐसा यज्ञ जो पूर्ण हो जाता तो दुनिया से खत्म हो जाता सांपों का अस्तित्व

ऐसा यज्ञ जो पूर्ण हो जाता तो दुनिया से खत्म हो जाता सांपों का अस्तित्व

ये घटना महाभारत युद्ध के कुछ सालों बाद की है। महाभारत युद्ध के उपरांत पांडव राज्य छोड़कर हिमालय जाने लगे, तो उन्होंने अपने शासन का भार अभिमन्यु के पुत्र परीक्षित...

Read more

इस वजह से दो टुकड़ों में पैदा हुआ था जरासंध

इस वजह से दो टुकड़ों में पैदा हुआ था जरासंध

द्वापर युग के शक्तिशाली शासकों में जरासंध का नाम भी गिना जाता है। वो मगध (आधुनिक बिहार) का राजा और मथुरा नरेश कंस का ससुर था। जरासंध भगवान शंकर का...

Read more

आखिर आज भी क्यों असहनीय पीड़ा के साथ धरती पर भटक रहा है अश्वत्थामा

आखिर आज भी क्यों असहनीय पीड़ा के साथ धरती पर भटक रहा है अश्वत्थामा

अश्वत्थामा, कौरव और पांडवों के गुरु द्रोणाचार्य का पुत्र था। गुरु द्रोणाचार्य का विवाह कृपाचार्य की बहन कृपी के साथ हुआ था। जब अश्वत्थामा जन्म हुआ तो वो जन्म लेते...

Read more

इन वजहों से न करें पूजा, नहीं मिलेगा कोई लाभ

इन वजहों से न करें पूजा, नहीं मिलेगा कोई लाभ

हर कोई अपनी सुख समृद्धि चाहता है। इसी कारण उसकी हमेशा कोशिश रहती है कि वो भगवान को खुश रखे। इसके लिए वो पूजा-पाठ और ध्यान का सहारा लेता है।...

Read more

इस तरह से हुआ था कलियुग का धरती पर आगमन

इस तरह से हुआ था कलियुग का धरती पर आगमन

चार युगों में कलियुग को अधर्म का युग माना गया है। इस युग में इंसान सारे नाते-रिश्ते भूलकर अपने सगे संबंधियों का ही दुश्मन बन जाता है। अपने नैतिक मूल्यों...

Read more

जगतपिता हैं ब्रह्मा, लेकिन श्राप के कारण धरती पर सिर्फ एक जगह होती है उनकी पूजा

जगतपिता हैं ब्रह्मा, लेकिन श्राप के कारण धरती पर सिर्फ एक जगह होती है उनकी पूजा

ब्रह्मा, विष्णु और महेश को सृष्टि का आधार माना जाता है। सृष्टि का सारा कार्यभार इन्हीं लोगों के ऊपर रहता है। ब्रह्मा ने जहां इस संसार की रचना की तो...

Read more
Page 1 of 5 1 2 5

SOCIALLY CONNECTED




Sponsor